IAS officer Kaise Bane। syllabus or qualifications

नमस्कार पाठकों,

जैसा की हम जानते है कि भारत में हर वर्ष तकरीबन 9 लाख से ज्यादा लोग IAS बनने के लिए अपने जीवन के 5-6 वर्षों तक इसकी खूब तैयारी करते है। और इसी के साथ बहुत से लोग अपनी जीवन के अंतिम प्रयास की परीक्षा देते है। बहुत से लोग इस परीक्षा को पास करते है और ज्यादातर लोग कभी IAS नहीं बन पाते है। इसी लिये आपको भी IAS के बारे में जानना चाहिए।

आज के लेख में हम आपको बताएँगे कि IAS क्या है, एक IAS ऑफिसर कैसे बने, एक IAS ऑफिसर बनने के लिए क्या योग्यताये है, इसके कितने एग्जाम होते है, कैसा इसका सिलेबस होता है IAS बनने का प्रोसेस क्या होता है और एक IAS ऑफिसर की क्या क्या शक्तिया होती है।

इसे भी पढ़े :- भारत का राष्ट्रपति कैसे बने-2021 पूर्ण जानकारी 

इसे भी पढ़े :- राज्यसभा के मेंबर कैसे बने 2021 पूर्ण जानकारी

इसे भी पढ़े :- जिलाधीश कैसे बनते हैं

IAS officer Kaise Bane

IAS क्या है

  • 1772 में वारेन हास्टिंग ने ICS (इंडियन सिविल सर्विस) के जरिये collector के पद की शुरुआत करी थी जिसे आज के समय में IAS माना जाता है।
  • एक तरीके से कहा जाये तो IAS ब्रिटिश राज का शुरू करा गया वह पद है जिसके जरिये ब्रिटिश राज में अंग्रेज़ भारत के विभिन्न बड़े जिलों और राज्यों पर ब्रिटिश राज की कार्यकारी शक्तियों का नियंत्रण रखते हुए राज करते थे।
  • आज भी एक IAS संघ सरकार सरकार के प्रतिनिधि के रूप में राज्यों के अन्दर रहकर वहा की शासन व्यवस्था व कार्यप्रणाली को संचालित करता है। एक IAS को जिला अधिकारी भी कहा जाता है।

एक IAS ऑफिसर कैसे बना जा सकता है।

  • सबसे पहले तो आपको यह बात माननी होगी की एक IAS बनाना आसन नहीं है क्योंकि एक लोकतंत्र की करोड़ों जनसँख्या में से कुछ सौ ऐसे लोगों को चुनना जिन्हें एक जिले या राज्य के शासन प्रणाली की बागडोर सभालने को दी जाये, बिलकुल भी आसान काम नहीं है।
  • IAS बनने के लिए संघ सरकार की तरफ से बने गयी UPSC (संघ लोक सेवा आयोग) हर वर्ष एक परीक्षा का आयोजन करती है जिसमे से देश के युवाओं को यह अवसर दिया जाता है कि वे IAS बनने के लिए आवेदन कर सकते है। UPSC के द्वारा आयोजित इंडियन सिविल सर्विस के एग्जाम को उत्तीर्ण करके IAS बना जा सकता है।

IAS बनने के लिए योग्यताये

यह बात माननी होगी कि एक बात तो UPSC के चयनकर्ताओं को भी पता है कि एक IAS बनने के लिए शारीरिक या शैक्षिक योग्यताओं से ज्यादा मानसिक संतुलन और सही फैसले लेने की क्षमता अधिक स्थान रखती है जिससे एक कल्याणकारी राज्य की स्थापना करी जा सकती है। इसी लिए IAS की योग्यताये भी इसी उद्देश्य को देखते हुए निर्धारित करी गयी है।

  • एक जिला अधिकारी बनने के लिए आपका भारत का नागरिक होना जरूरी है।
  • एक जिला अधिकारी बनने के लिए आपका कम से कम ग्रेजुएट होना आवश्यक है।
  • एक जिला अधिकारी बनने के लिए आपका मानसिक संतुलन बिलकुल सही होना चाहिए।
  • एक जिला अधिकारी बनने के लिए आपका एक अपराधी होना वर्जित है।
  • आपकी उम्र कम से कम 21 वर्ष व ज्यादा से ज्यादा 32 वर्ष(सामान्य वर्ग के लिए), 35 वर्ष(OBC के लिए), 37 वर्ष(SC/ST के लिए), 42 वर्ष (दिव्यांग लोगों के लिए) हो सकती है।

IAS के कितने एग्जाम होते है

Indian Civil Service में UPSC द्वारा ली जाने वाली परीक्षाओं में IAS के तीन चरणों में कुल 11 परीक्षाये और 1 इंटरव्यू होता है। यदि किसी को IAS बनना है तो उसे इन सभी परीक्षाओं को पास करना होगा

IAS की परीक्षाये तीन चरणों में होती है

1. प्रारंभिक परीक्षा

2. मुख्य परीक्षा

3. साक्षात्कार

प्रारम्भिक परीक्षा में आपको दो जनरल स्टडीज की परीक्षाये देनी होंगी इनमे एक सामान्य ज्ञान पर आधारित होगा और एक सामान्य गणित या CSAT – II, जिनमे आपको विकल्पों ‘अ’, ’ब’, ‘स’, ‘द’ या फिर ‘A’, ‘B’, ‘C’, ‘D’ में से चुनकर सही का चुनाव करना होगा और OMR शीट भरनी होगी।

मुख्य परीक्षा में आपको 9 परीक्षाये पास करनी होगी

  • भारतीय संविधान के शेड्यूल – 8 में रखी हुई भाषाओं में से कोई भी एक भाषा।
  • अंग्रेजी
  • निबंध लेखन
  • GS पेपर – 1 जिसमे आपको भारत की संस्कृति और इसकी विरासतें तथा विश्व व समाज की भौगोलिक परिस्थिति और इतिहास पर आपको लिखित परीक्षा देनी होगी।
  • GS पेपर – 2 जिसमे आपको शासन, कल्याणकारी नीतियों, संविधान, सामाजिक न्याय, और अंतर्राष्ट्रीय संबंध पर आपको लिखित परीक्षा देनी होगी।
  • GS पेपर – 3 इसमें तकनीकी, इकनॉमिक development, जैव विविधता, सुरक्षा और आपदा प्रबंधन, कृषि पर आपको लिखित परीक्षा देनी होगी।
  • GS पेपर – 4 में आपको एथिक्स, इंटीग्रिटी, एप्टीट्यूड पर आपको लिखित परीक्षा देनी होगी।
  • इसके बाद वैकल्पिक विषय – 1
  • तथा उसके बाद वैकल्पिक विषय – 2
  • इन सब परीक्षाओं को पास करने के बाद आपको इंटरव्यू देना होता है
  • इंटरव्यू में आपका साक्षात्कार होता है और आपके लिए आये हुए नियोक्ता आपकी मानसिक परिस्थिति और जवाब देने के तरीके को समझ और परख कर आपका चयन करते है

IAS के लिए syllabus क्या है

IAS के लिए वास्तव में एक भारी syllabus है इसमें प्रारम्भिक परीक्षा के लिए अलग और मुख्य परीक्षा के लिए अलग कोर्स है।

प्रारंभिक परीक्षा में

  • राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्व की घटनाएं
  • भारत का इतिहास और आन्दोलन
  • भारत और विश्व का भूगोल
  • भारतीय राजनीति, शासन प्रणाली, राजनैतिक व्यवस्था, पंचायती राज
  • आर्थिक व सामाजिक विकास, गरीब तबके द्वारा किये गए महान कार्य
  • पर्यावरण, जैव विविधता, वातावरण परिवर्तन, कृषि
  • तार्किक शक्ति, निर्णय लेने की क्षमता, साधारण गणित, संख्यात्मकता और मानसिक क्षमता का विकास इत्यादि शामिल है और मुख्य परीक्षा के syllabus के बारे में ऊपर जानकारी दी गयी है।

IAS बनने का प्रोसेस क्या है?

  • IAS बनाने के लिए सबसे पहले तो आपको UPSC द्वारा जारी किये गए भर्तियों के लिए आवेदन करना होता है।
  • आवेदन करने के बाद प्रारंभिक परीक्षा देनी होती है जिसमे आप के 2 पेपर होते है।
  • प्रारंभिक परीक्षा के बाद आपकी मुख्य परीक्षा होती है जिसमे आपको 9 लिखित परीक्षाये पास करनी होती है।
  • मुख्य परीक्षा के बाद आपको इंटरव्यू देना होता है और वहा से आपका सिलेक्शन होता है और आप को LBSNAA, मसूरी, उत्तराखंड भेज दिया जाता है जहा आपकी 2 साल की ट्रेनिंग होती है।
  • ट्रेनिंग के बाद आपको ऑफिशियली राजभवन में राष्ट्रपति के द्वारा आपको आपका अपॉइंटमेंट लेटर दिया जाता है जिसमे आपका कैडर बताया होता है।
  • 5 वर्षों तक आप अपने निर्देशित कैडर में केवल डिप्टी कलेक्टर या असिस्टेंट कलेक्टर के रूप में काम करते है।
  • उसके बाद आपकी प्रमोशन होती है और आप IAS या कलेक्टर बन जाते है।

IAS की शक्तियां

पूरे भारत की सबसे कठिन परीक्षा को पास करके जब एक साधारण व्यक्ति एक IAS बनता है तो वह सर्वोच्च शक्तियों का उपभोग भी करता है। एक IAS ऑफिसर के पास निम्नलिखित शक्तियां होती है।

  • वह शासन के बुनियादी ढांचें का रक्षक होता है और सरकारी मामलों का प्रबंधक होता है।
  • सरकारी नीतियों को लागू करने और उनके धरातल पर काम देखने का भी कार्य IAS का होता है।
  • किसी भी प्रकार के आपदा प्रबंधन में एक IAS ऑफिसर पूरे जिले व राज्य का रक्षक होता है और सारे कार्य उसके निर्देशानुसार और उसके निरीक्षण में होते है।
  • राजस्व सम्बन्धी सारे रिकॉर्ड को व्यवस्थित और सही रखने का काम तथा जो लोग राज्य का पैसा नहीं दे रहे उनसे पैसे निकलवाने का काम भी IAS का होता है।
  • एक IAS के अंतर्गत राज्य के सारी कार्यकारी नीतियां होती है।
  • कुछ मामलों में न्यायाधीश का काम भी करता है।
  • राज्य में कानून व्यवस्था बनाये रखने का भार IAS पर ही होता है।

तो आज के लेख में हमने IAS से संबंधित सारी जानकारी प्राप्त करी। की IAS ऑफिसर कैसे बने, एक IAS ऑफिसर बनने के लिए क्या योग्यताये है, अगर इस लेख से सम्बंधित आप और कुछ जानना चाहते है या अपना कोई सुझाव देना चाहते है तो हमे कमेंट करके जरूर बताये हमे आपका जवाब देना मे ख़ुशी होगी.

यदि आपको भी हमारा यह लेख पसंद आया हो तो कृपया इसे अपने मित्रों तक जरूर शेयर करे।

धन्यवाद।

इसे भी पढ़े :- Web Designer कैसे बने

इसे भी पढ़े :- Web developer कैसे बने

इसे भी पढ़े :- Digital Marketing क्या हैं

इसे भी पढ़े :- निशानेबाजी में करियर कैसे बनाये