स्पेस साइंस में करियर कैसे बनाये 2021 पूर्ण जानकारी Space Scientist kaise Bane

नमस्कार पाठकों

आज के लेख में हम जानेंगे कि स्पेस साइंस में एक व्यक्ति का क्या स्कोप हो सकता है और स्पेस साइंस से हम कैसे अपना करियर बना सकते हैं।

मित्रों यदि आप बचपन से ही जिज्ञासु प्रवृत्ति से रहे है तो आप यह समझ सकते हैं कि आकाश में तारों को देख कर और अलग-अलग प्रकार की रोशनी को देखकर हमारे मन में बहुत बार यह सवाल उठते हैं कि यह सब क्या है और यह सब कैसे हो रहा है।

थोड़ी पढ़ाई करने के बाद हमें पता चलता है कि यदि हमें इन सब सवालों का जवाब जानना है तो हमें इस पर स्पेस साइंस जिसे ब्रह्माण्ड साइंस भी कहा जाता है, को अध्ययन करना होगा.

ये भी पढ़े:-

डेटा साइंटिस्ट कैसे बने

हैकर कैसे बने

कैरम का चैंपियन कैसे बने

स्पेस साइंटिस्ट कैसे बने

स्पस साइंस में हमें हमारे इन सभी सवालों के जवाब मिलते हैं, जैसे कि ब्रह्मांड किससे बना है, ब्रह्मांड क्या है, यह तारे क्यों चमकते है, अलग-अलग प्रकार की रोशनी कहां से आती है, और जैसे-जैसे हम स्पेस साइंस को गहराई से जानने लगते हैं हमें पता चलता जाता है कि ब्रह्मांड में जाने के लिए बहुत कुछ है।

आज के लेख में हम आप को यही बताएंगे कि स्पेस साइंटिस्ट कैसे बने, स्पेस साइंस में हमें किस प्रकार के स्कोप मिलते हैं। एक स्पेस साइंटिस्ट बन कर आप अपना करियर कैसे बना सकते हैं। और आप के कार्य क्या क्या होंगे। चलिए शुरू करते हैं-

स्पेस साइंस क्या है

मित्रों, स्पेस साइंस जिसे ब्रह्माण्ड साइंस भी कहा जाता है, साइंस की दुनिया का एक ऐसा क्षेत्र है जहां ब्रह्मांड में होने वाली घटनाओं का अध्ययन किया जाता है, उन्हें समझा जाता है, उससे शिक्षा ली जाती है, और उन शिक्षाओं को मानव विकास तथा कल्याण के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

स्पेस साइंस में मुख्यता 5 ऐसी चीजें होते हैं जो कि अत्यंत महत्वपूर्ण होती है जैसे कि-

·   सवाल पूछना

·   इंफॉर्मेशन एकत्रित करना।

·  एकत्रित इंफॉर्मेशन का विश्लेषण करना।

·  जानकारी समझकर सिद्धांतों तथा अपने ज्ञान को पटल पर रखना।

·  उस ज्ञान तथा सिद्धांत टेक्नोलॉजी डेवलपमेंट में लागू करके कल्याणकारी कार्य करना।

. यह कार्य अंतरिक्ष से संबंधित क्षेत्र में किए जाते हैं।

अंतरिक्ष विज्ञान कितने भागों में विभाजित है

अंतरिक्ष विज्ञान मुख्य तीन भागों में विभाजित है जिसमें

·    अंतरिक्ष विज्ञान

·    गृह विज्ञान

·    जीवन विज्ञान

यह तीन इसके मुख्य भाग हैं

अंतरिक्ष विज्ञान

अंतरिक्ष के संबंध में अंतरिक्ष विज्ञान का अध्ययन किया जाता है जिसमें खगोल विज्ञान खगोल भौतिकी और भौतिक विज्ञान का अध्ययन किया जाता है

गृह विज्ञान

गृह विज्ञान में हमारे सौरमंडल के ग्रहों और उन ग्रहों पर स्थित वायुमंडल का वातावरण पर प्रभाव और विभिन्न ग्रहों की चाल से पृथ्वी पर पड़ने वाला प्रभाव तथा पृथ्वी पर उत्पन्न होने वाले वातावरणीय प्रभाव तथा मानवों पर पड़ने वाले प्रभाव और पृथ्वी के जल तथा धरती पर पड़ने वाले प्रभावों का गहराई से अध्ययन किया जाता है।

गृह विज्ञान के अंतर्गत वायुमंडलीय विज्ञान भू विज्ञान और मौसम विज्ञान का गहराई से अध्ययन किया जाता है।

जीवन विज्ञान

Space science के संदर्भ में जीवन विज्ञान एक अत्यंत ही महत्वपूर्ण भाग है। जहां पर पृथ्वी सहित अन्य ग्रहों पर भी जीवन की खोज तथा जीवन होने की संभावना व संभावनाओं का अध्ययन किया जाता है।

पृथ्वी के वातावरण के अनुसार अन्य ग्रहों पर भी वातावरण का तुलनात्मक अध्ययन किया जाता है। उसके अनुसार वहां पर जीवन खोजने की संभावनाएं व्यक्ति करी जाती है।

जीवन विज्ञान में जीव विज्ञान, चिकित्सा विज्ञान और पोषण विज्ञान का गहराई से अध्ययन किया जाता है

एक स्पेस साइंटिस्ट कैसे बना जा सकता है

यदि आप को भी ब्रह्मांड के रहस्यों में दिलचस्पी है और आप इनके बारे में अधिक से अधिक जानना चाहते हैं तो आपको कुछ मूलभूत क्षेत्रों में विशेषज्ञता प्राप्त करनी होगी।

सबसे पहले तो आपको अंक शास्त्र अथवा गणित मैं रूचि होनी चाहिए।

आपका भौतिक विज्ञान और रसायन विज्ञान पर मानसिक नियंत्रण होना चाहिए।

जीव विज्ञान में आपको अधिक रुचि होनी क्योंकि यह आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण होगा।

क्या योग्यता होनी चाहिए

एक स्पेस साइंटिस्ट बनने के लिए आपका पीएचडी और एक पोस्टडॉक्टोरल फैलोशिप  आपको शोधकर्ता के पदों पर पहुंचा सकता है।

·    इसमें आपको सबसे पहले एक स्नातक की डिग्री चाहिए होगी, जो कि 3 या 4 साल की होगी।

·    उसके बाद में आपको एक मास्टर डिग्री चाहिए होती जो एक्स्ट्रा 2 वर्षों की होगी।

·    उसके बाद मैं आपकी पीएचडी भी पूरी होनी चाहिए।

·    और पोस्टडॉक्टोरल फैलोशिप आपके लिए एक प्लस पॉइंट होगा।

आइए जानते हैं कि विभिन्न विज्ञान के भागों में आपको किन-किन विशेषताओं के अंतर्गत विज्ञान का अध्ययन करना होता है-

खगोल विज्ञान

खगोल विज्ञान का वह क्षेत्र है जहां पर तारो, आकाशगंगा, ग्रहों, धूमकेतु का अध्ययन किया जाता है।

एक खगोल विज्ञानी पृथ्वी पर रहकर महान और भारी-भरकम दूरबीनों का उपयोग करके विभिन्न ग्रहों की गति को समझता है। उनके व्यवहार को अंकित करता है और अपने एकत्रित किए हुए आंकड़ों से यह पता लगाने की कोशिश करता है कि आंकड़ों का उपयोग किस प्रकार मानव कल्याण के लिए किया जा सकता है।

एक खगोल विज्ञानी ब्रह्मांड में तारों, ग्रहों, एक्सरे तथा गामा किरणों के उत्सर्जन का तथा ब्रह्मांड में हो रही हिंसक घटनाओं जैसे कि ग्रहों का बनना उनका विध्वंस हो जाना और इन सब का अध्ययन करता है।

उसके साथ ही माइक्रोवेव और रेडियो लहरों का अध्ययन करना, गैस और धूल के ठंडे बादलों का अध्ययन करना, शुक्र ग्रहों और धूमकेतु का अध्ययन करना इत्यादि खगोल वैज्ञानिक के कार्यों के अंतर्गत आता है।

वायुमंडलीय विज्ञान

वायुमंडल वैज्ञानिक पृथ्वी के साथ-साथ विभिन्न ग्रहों के वातावरण का अध्ययन करता है। तथा यह समझने की कोशिश करता है कि वहां के वातावरण किस प्रकार कार्य करते हैं। वहां के वातावरण की गतिशीलता, उनकी बनावट और इन सब का अध्ययन करना इत्यादि एक वायुमंडल वैज्ञानिक का कार्य होता है।

रसायन विज्ञान

एक अंतरिक्ष वैज्ञानिक जो रसायन विज्ञान का अध्ययन करता है वह ग्रहों और आकाशीय पिंडों के मध्य बनावट का अध्ययन करता है। और इस बात को समझने का प्रयास करता है कि उनके ग्रहों के और आकाश पिंडों के परमाणु तथा अणुओं के बीच में किस प्रकार के परिवर्तन हो सकते हैं।

एक रसायन वैज्ञानिक अंतरिक्ष के विभिन्न प्रकार के आंकड़ों को एकत्रित करता है और उनका विश्लेषण करता है और कभी कभी महान और भारी-भरकम दूरबीनों का उपयोग भी करता है।

भूविज्ञान

एक भूवैज्ञानिक पृथ्वी समेत विभिन्न ग्रहों के चट्टानों के बारे में जानकारी हासिल करता है। जैसे कि वह चट्टाने किस प्रकार बनी है, किन कारणों से बनी है, और भविष्य में किस प्रकार बदल रही है।

इसी के साथ-साथ अंतरिक्ष विज्ञान में भू-वैज्ञानिक वैज्ञानिक उपग्रहों और रोवर्स व लैंडर्स के बारे में जानकारी प्राप्त करता है उनके आंकड़ों का निरीक्षण करता है।

जैसा कि हम जानते हैं कि कई बार रॉकेट में कुछ ऐसे उपकरण भेजे जाते हैं जिन्हें दूसरे ग्रहों पर जाकर के उनके उन ग्रहों के धरातल पर उतर कर वहां भ्रमण करना होता है। और वहां से महत्वपूर्ण जानकारियों को एकत्रित करके पृथ्वी पर वापस लाना होता है।

गणितज्ञ अंतरिक्ष विज्ञान

एक गणितज्ञ अंतरिक्ष विज्ञान के लगभग सभी शाखाओं में अपना महत्वपूर्ण योगदान देता है। अंतरिक्ष विज्ञान मैं एक गणितज्ञ बीजगणित, ज्यामिति, कलन, प्रोबेबिलिटी और सांख्याकी से संबंधित कठिनाइयों का समाधान करता है।

एक गणितज्ञ की सहायता से ही ऐसे सॉफ्टवेयर और कंप्यूटर बनाए जा सकते हैं जो अंतरिक्ष यान और लैंडर व रोवर में सामंजस्य बैठाने का कार्य कर सकते हैं।

स्पेस साइंस की पढ़ाई कहां करें

स्पेस साइंस एक बहुत ही उन्नत किस्म का तकनीकी क्षेत्र है। इस क्षेत्र की पढ़ाई सामान्य विद्यालयों में नहीं हो सकती है।

इसलिए इनके लिए अलग तथा उन्नत महाविद्यालयों की स्थापना भारत में करी गई है।

जैसे कि-

·    आर्यभट्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट आफ ऑब्जर्वेशनल साइंस जोकि नैनीताल में स्थित है।

·    इंडियन इंस्टीट्यूट आफ एस्ट्रोफिजिक्स जो कि बेंगलुरु में स्थित है।

·    इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एंड एजुकेशन रिसर्च जो कि दिल्ली में स्थित है।

·    इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस जो कि बेंगलुरु में स्थित है।

·    इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ स्पेस साइंस एंड टेक्नोलॉजी जो तिरुवनंतपुरम में स्थित है।

· द इंटर यूनिवर्सिटी सेंटर फॉर एस्टॉनोमी और एस्ट्रोफिजिक्स जो कि पुणे में स्थित है।

 ·  इसी के साथ नेशनल सेंटर फॉर रेडियो एस्टॉनोमी जो कि पुणे में स्थित है।

तथा इसी प्रकार के कई अन्य संस्थाएं और महाविद्यालय भारत में ही उपलब्ध है जो मुख्य रूप से स्पेस साइंस का अध्ययन करवाते हैं।

निष्कर्ष

तो आज के लेख में हमने जाना कि स्पेस साइंस क्या होता है, स्पेस साइंटिस्ट कैसे बने और स्पेस साइंस के अंतर्गत किस प्रकार के स्कोप उपलब्ध है जिनमें एक व्यक्ति अपना करियर खोज सकता है।

आज हमने भी जाना कि विभिन्न प्रकार के विज्ञान के क्षेत्र में किस-किस प्रकार का कार्य किया जाते है। यदि आपको हमारी दी गयी जानकारी पसंद आए तो कृपया हमारे इस लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें।

धन्यवाद

ये भी पढ़े :-

विधान सभा से मंत्री कैसे बने

IAS officer Kaise Bane

जिलाधीश कैसे बनते हैं

Accountant कैसे बने

Web developer कैसे बने?

5 thoughts on “स्पेस साइंस में करियर कैसे बनाये 2021 पूर्ण जानकारी Space Scientist kaise Bane”

  1. Pingback: Foreigh Language kaise seekha in india? best career after 12th

  2. Pingback: Android App डेवलपर कैसे बने 2021 पूरी जानकारी App developer in hindi -

  3. Pingback: फॉरेंसिक साइंटिस्ट कैसे बने।2021 पूरी जानकारी, Forensic Science kya hai -

  4. Pingback: ITI में करियर कैसे बनाये 2021 पूर्ण जानकारी। ITI Course kya hota hai

  5. Pingback: Olympic खेल क्या है। 2021 पूर्ण जानकारी Olympic GAME में करियर कैसे बनाये -

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *