Taliban kya hai 2021 पूरी जानकारी।

नमस्कार पाठकों,

मित्रों आजकल खबरों में एक सबसे बड़ी एक news फैली हुई है और यह आप भी जानते होंगे कि Taliban ने Afghanistan पर कब्जा कर लिया है। वहां पर लोकतांत्रिक रूप से चुनी गई सरकार ने Taliban के खिलाफ घुटने टेक दिए। और Taliban ने शक्ति का स्थानांतरण कर लिया।

आज के समय Taliban Afghanistan के राष्ट्रपति भवन में बैठा हुआ है। इससे संबंधित आज हम आपको Taliban के बारे में पूरी जानकारी देंगे। आज हम बताएंगे कि Taliban kya hai, Taliban का उदय कहां से हुआ, Taliban में कौन लोग शामिल हैं, Taliban में क्या क्या नारा है, Taliban क्या भारत के लिए खतरा है या नहीं। इसी से संबंधित आज हम आपको सारी जानकारी देंगे।

चलिए शुरू करते हैं-

Taliban kya hai

Taliban kya hai

मित्रों Taliban एक कट्टरपंथी इस्लामिक संगठन है। Taliban का उदय 1980 से लेकर के 1990 के बीच में माना जाता है। पाकिस्तान समेत सारे इस्लामिक देशों में से जो कट्टरपंथी विचारधारा के लोग थे, वह Afghanistan में शरिया स्थापित करने के लिए और किसी भी प्रकार के लोकतांत्रिक विचारधारा का समूल विनाश करने के लिए Afghanistan में भेजे गए थे।

मित्रों Taliban शब्द का अर्थ हम इसके शब्द सही समझ सकते हैं। Taliban शब्द पश्तो भाषा का एक शब्द है। पश्तो भाषा में तालिब का मतलब है तालीम, अर्थात, Taliban का अर्थ होता है ज्ञान हासिल करने वाला या जो ज्ञान हासिल करना चाहता है अर्थात एक छात्र भी हम से कह सकते हैं।

अब यदि हम Taliban की परिभाषा में जाएं तो Taliban के लोग वह कट्टरपंथी इस्लामिक विचारधारा के लोग हैं जो पूरे रूप से इस्लाम में भरोसा रखते हैं और किसी भी दूसरी विचारधारा से प्रभावित नहीं होते या उसकी तरफ नहीं जाते है।

Taliban के लोग केवल इस्लाम मजहब के छात्र हैं अर्थात वे इस्लाम को ही समर्पित है और यदि Taliban को समझने के लिए हम और भी ज्यादा सरल शब्दों का उपयोग करें तो Taliban मदरसों में पढ़े हुए इस्लामिक कट्टरपंथियों के व्यक्तियों का एक संगठन है। Afghanistan में Taliban देओबंदी सुन्नी मुसलमानों का एक आतंकवादी संगठन है।

Taliban का उदय कब हुआ

जब 1979 में Soviet Union ने अर्थात आज के रूस ने Afghanistan में invade किया था, अर्थात उन्होंने जब Soviet Union Afghanistan में जबरदस्ती घुसा था। और वहां एक प्रेसिडेंट को नियुक्त किया गया था जो कम्युनिस्ट विचारधारा के लोगों के प्रति झुकाव रखते थे।

तब उनसे क्रोधित होकर पूरे इस्लामिक दुनिया ने Soviet Union का बहिष्कार किया और उसे कोसने लगे थे। लेकिन यह बात केवल बुरा मानने तक नहीं रही। पूरे इस्लामिक देशों ने 1985 तक अपने-अपने देश में जो इस्लामिक कट्टरपंथी विचारधारा के लोग थे, जो लड़ाके थे, उन्होंने धीरे-धीरे धीरे-धीरे करके Afghanistan में भेजना शुरू किया।

उनमें सबसे ज्यादा संख्या पाकिस्तान के कट्टरपंथियों की थी।

इसे भी पढ़े:-

Digital Marketing में करियर कैसे बनाये

 Foreigh Language kaise seekha in india

Android App डेवलपर कैसे बने

Olympic खेल क्या है

यदि पाकिस्तान की पूर्व डिटेक्टर/तानाशाह और सेना प्रमुख परवेज मुशर्रफ की बात को आधार माना जाये तो उन्होंने पाकिस्तानी सेना के और पाकिस्तान के मदरसों में पढ़ने वाले आक्रामक और कट्टरपंथी विचारधारा के लोगों को Afghanistan में भेजा, ताकि वें Soviet Union को हराया जा सके।

समय के साथ जब Soviet Union को लगा कि Afghanistan में उसके लिए कुछ भी नहीं बचा है, तब उन्होंने अपने सेनाओं को Afghanistan से बुला लिया और Taliban ने इसे अपनी विजय माना।

इस प्रकार 1994 में Taliban ने अपने आप को एक संगठन के रूप में परिभाषित किया। विभिन्न इस्लामिक देशों से आए हुए मुस्लिम कट्टरपंथी विचारधारा के आतंकवादियों ने आपस में मिलकर के Taliban को जन्म दिया। Taliban का जन्म मुल्लाह उमर अर्थात मोहम्मद उमर के नेतृत्व में 1996 में हुआ।

America का Afghanistan में दखल

मित्रों America वैसे तो Soviet Union के समय से ही Afghanistan में दखल दे चुका था। क्योंकि कम्युनिस्ट की और America की आपस में बिल्कुल भी नहीं बनती थी। एक समय में तो America में कम्युनिस्ट होना अपराध माना जाता था। यह प्रथम विश्व युद्ध के कारण था। जिसमें Soviet Union ने हजारों अमेरिकी फौजियों को मारा था।

नफरत में आकर के America ने Taliban और अन्य आतंकवादी संगठनों को Soviet Union से लड़ने के लिए मजबूत किया।

लेकिन जब 11 सितंबर 2001 में America पर आतंकवादी हमला हुआ और वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के “द ट्विन टावर” पर अलकायदा ने हमला करके 5000 से ज्यादा मासूम अमेरिकी जनता को मार दिया था उसके बाद से Taliban और America के बीच में जंग का माहौल बनता गया।

ओसामा बिन लादेन की तलाश में America ने Afghanistan पर आक्रमण किया और हजारों लोगों की जान ली। इसमें America के भी हजारों सैनिक शहीद हुए और अंत में ओसामा बिन लादेन को पाकिस्तान के ऐबटाबाद में ढूंढ करके America ने मार गिराया था। उसके बाद से America Afghanistan से निकलने की तैयारी में था।

सन 2001 से America Afghanistan में घुसा हुआ था लेकिन वह धीरे-धीरे करके वहां से निकल रहा था 2020 और 21 तक आते-आते America वहां से लगभग निकल चुका था। America के 1000 सैनिक Afghanistan में रुके हुए थे जिन्हें America को निकालना था।

कुछ दिन पहले America ने लगभग अपने सारे सैनिक Afghanistan से निकालकर America में ले आए। America के जाते ही Taliban को दो महाशक्तियों को हराने का श्रेय मिल चुका था।

America के Afghanistan से निकलते ही Taliban ने Afghanistan के राष्ट्रपति भवन पर कब्जा कर लिया और काबुल को अपना बेस बना लिया। इसके साथ ही Islamic Emirate of Afghanistan यानि की IEA घोषणा Taliban के द्वारा कर दी गई।

मुल्लाह उमर जिन्होंने Taliban को जन्म दिया था। या दूसरे शब्दों में कहें तो जिनके नेतृत्व में Taliban बना था, उनके दूसरे भाई मोहम्मद उमर अर्थात “मुल्लाह अब्दुल गनी बरादर” जो Taliban का de-facto अर्थात दूसरे रूप से लीडर था, को America ने पाकिस्तान पर प्रेशर डलवा करके जेल में डलवा दिया था। America के Afghanistan से निकलते ही अब उसे भी छोड़ दिया गया है।

Taliban का भारत पर खतरा

मित्रों Taliban लगभग 40 वर्ष गुफा में रहा है और पहाड़ों और रेगिस्तान मैं भटका है। उन्होंने अब काबुल पर कब्जा कर लिया है अर्थात Afghanistan की राजधानी Taliban के अंतर्गत आ चुकी है। जिसके कारण उन्हें अब Afghanistan को चलाना भी होगा।

भविष्य के बारे में कुछ भी कहना निश्चित रूप से गलत हो सकता है लेकिन Afghanistan ने खुद यह बयान दिया है कि यदि भारत Afghanistan में दखल नहीं करेगा तो Afghanistan की भूमि भारत के खिलाफ कभी भी इस्तेमाल नहीं की जाएगी या Taliban कभी भी भारत पर आक्रमण नहीं करेगा या किसी भी प्रकार से भारत के खिलाफ आतंकवादी गतिविधियों में सम्मिलित नहीं होगा।

लेकिन फिर भी भारत सरकार की और भारत की सुरक्षा एजेंसियों की नजर Taliban तीखे रूप से बने हुए हैं।

निष्कर्ष

तो मित्रो आज के लेख में हमने जाना कि Taliban क्या है, Taliban का उदय कब हुआ, Taliban पर Soviet Union से लेकर के America के द्वारा Afghanistan पर हुए आक्रमण के बारे में हमने जाना और अंत में हमने यह जाना कि Taliban किस प्रकार भारत के लिए खतरा हो सकता है।

इस लेख से सम्बंधित अगर आप कुछ और जानना चाहते है या अपना कोई सुझाव देना चाहते है तो हमे कमेंट करके जरूर बताये हमे आपके कमेंट का जवाब देना में ख़ुशी होंगी। आज के लेख में हमने आपको Taliban के बारे में पूरी जानकारी दी। यदि आपको हमारा यह लेख पसंद आया तो कृपया इस लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें।

धन्यवाद

FAQ

प्रश्न:- Taliban क्या है?

उत्तर:- Taliban अलग-अलग इस्लामिक देशों से आए हुए इस्लामी कट्टरपंथियों का एक संगठन है जिसमें पाकिस्तान एक बहुत बड़ा रोल अदा करता है।

प्रश्न:- Taliban कौन सा देश है?

उत्तर:- Taliban देश नहीं है अपितु एक आतंकवादी संगठन है जो विभिन्न इस्लामिक देशों के इस्लामिक कट्टरपंथियों के द्वारा बनाया गया है और इसका नेतृत्व 1996 में मुल्ला उमर ने किया था जो पाकिस्तान के ही एक नागरिक थे।

प्रश्न:- Taliban का अर्थ क्या होता है?

उत्तर:- Taliban का अर्थ होता है इस्लाम के बारे में ज्ञान हासिल करने वाला या ज्ञान हासिल करने का इच्छुक।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *